CapsuleinfoMedicineBifilac Capsule Uses in Hindi: बिफिलैक कैप्सूल की जानकारी, लाभ, साइड इफ़ेक्ट...

Bifilac Capsule Uses in Hindi: बिफिलैक कैप्सूल की जानकारी, लाभ, साइड इफ़ेक्ट और कीमत

Bifilac Capsule (बिफिलैक कैप्सूल) 10 प्रोबायोटिक्स नामक एक समूह की दवाओं से संबंधित है जो डिस्बैक्टीरियोसिस, एंटीबायोटिक से जुड़े दस्त, संक्रामक दस्त, गैस्ट्रोएंटेराइटिस, सूजन आंत्र रोग, कब्ज, क्लोस्ट्रीडियम-डिफिसाइल से जुड़े दस्त, हेलिकोबैक्टर पाइलोरी संक्रमण, ट्रैवलर दस्त और गर्भवती महिलाओं में दस्त का इलाज करते हैं। साथ ही लैक्टोज असहिष्णुता एलर्जी संबंधी विकारों, मोटापे, सामान्य सर्दी, एक्जिमा, सूजन संबंधी गठिया, योनि खमीर संक्रमण और मूत्र पथ संक्रमण में भी बिफिलैक कैप्सूल 10 का उपयोग किया जा सकता है। आंत के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के अलावा, बिफिलैक कैप्सूल 10 आंत के वनस्पतियों को संतुलित करता है, आंत की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और सूजन प्रतिक्रिया को संतुलित रूप से समर्थित करता है।

 बिफिलैक कैप्सूल 10 में चार प्रोबायोटिक्स हैं: बैसिलस मेसेन्टेरिकस, क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम, लैक्टिक एसिड बैसिलस और स्ट्रेप्टोकोकस फैकैलिस। रोगजनक बैक्टीरिया के विकास को बैसिलस मेसेन्टेरिकस रोकता है और असामान्य गतिविधियों को नियंत्रित करके पाचन में मदद करता है। क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम क्लोस्ट्रीडियम डिफिसाइल जैसे घातक बैक्टीरिया के विकास में बाधा डालता है। लैक्टिक एसिड बैसिलस आंत में माइक्रोफ्लोरा के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल पारिस्थितिकी को बेहतर बनाता है।

बिफिलैक कैप्सूल क्या है? What is Bifilac Capsule Uses in Hindi

बिफिलैक एचपी कैप्सूल, एक प्रोबायोटिक पूरक, आंतों के माइक्रोबियल संतुलन को सुधार और रखरखाव कर सकता है, जो रोगियों को फायदा पहुंचा सकता है।

बिफिलैक एचपी कैप्सूल में चार विभिन्न बैक्टीरिया हैं। क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम, स्ट्रेप्टोकोकस फ़ेकेलिस, बैसिलस मेसेन्टेरिकस और लैक्टोबैसिलस स्पोरोजेनेस हैं।

बिफिलैक कैप्सूल की जानकारी – Bifilac Capsule Information in Hindi

बिफिलैक कैप्सूल एक न्यूट्रास्यूटिकल दवा है। यह प्रोबायोटिक, प्रीबायोटिक और इम्यूनोबायोटिक बैक्टीरिया के स्ट्रेन से भरपूर है। आंत के सामान्य माइक्रोबियल फ्लोरा (आंत में पाए जाने वाले लाभकारी सूक्ष्मजीव) को बहाल करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। विटागट कैप्सूल में प्रोबायोटिक गुण वाले बैक्टीरिया भी होते हैं।

यह दवा एंटीबायोटिक के उपयोग से जुड़े डायरिया (दस्त) के इलाज और रोकथाम में काम आती है, साथ ही कुछ दवाओं और अन्य रोगों से होने वाले डायरिया में राहत देती है। 

लाखों सूक्ष्मजीव हर व्यक्ति की आंत में रहते हैं, जो उसके स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में महत्वपूर्ण हैं। ये सूक्ष्मजीव प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) को सक्रिय करते हैं। ये कुछ हानिकारक पदार्थों को तोड़ते हैं और कुछ विटामिनों और अमीनो अम्लों को बनाते हैं जो खाने में आ सकते हैं। 

लेकिन कुछ परिस्थितियों में आपकी आंत में आम तौर पर पाए जाने वाले इन सूक्ष्मजीवों का संतुलन बिगड़ जाता है। इससे दस्त होते हैं और अवशोषण खराब होता है। अपने प्रोबायोटिक और प्रीबायोटिक गुणों के साथ, बिफिलैक कैप्सूल आंत में सामान्य बैक्टीरिया संतुलन को फिर से बनाता है। यह दस्त में भी राहत देता है और पाचन और अवशोषण में सुधार करता है। अपने डॉक्टर से सलाह लें। 

बिफिलैक कैप्सूल संरचना – Bifilac Capsule Composition in Hindi

यह कैप्सूल कई दवाओं का एक संयोजन है; इसमें 50 मिलियन स्पोर्स लैक्टोबैसिलस स्पोरजेंस, 1 मिलियन स्पोर्स बेसिलस मेसेन्टेरिकस, 30 मिलियन स्पोर्स स्ट्रेप्टोकोकस फैकलस और 2 मिलियन स्पोर्स क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटायरियम शामिल हैं।

इस कैप्सूल में प्रोबायोटिक तत्व हैं, जो पाचन तंत्र की इम्यून क्षमता को बढ़ा सकते हैं। इससे पाचन तंत्र में पोषक तत्वों का अवशोषण बढ़ता है। 

बिफिलैक कैप्सूल का उपयोगBifilac Capsule Uses in Hindi

बिफिलैक कैप्सूल बहुत सी बीमारियाँ दूर कर सकते हैं,जैसे-

  1. डायरिया संबंधी विकार : इस कैप्सूल को एंटी-बायोटिक से प्रेरित, एंटी-बायोटिक और ट्रैवलर डायरिया में उपयोग किया जाता है।
  2. बदहजमी : यह कैप्सूल बदहजमी की परेशानी को दूर करने के लिए उपयोग होता है। 
  3. इम्यूनिटी बिल्डिंग : इसका उद्देश्य शरीर की कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करना है। 
  4. इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम में भी इस कैप्सूल का उपयोग किया जाता है। 
  5. बिफिलैक कैप्सूल को कोलाइटिस (गैसट्रोइंटेस्टिनल संबंधी विकार) के इलाज में प्रयोग किया जाता है।
  6. इसका प्रयोग योनि के इन्फेक्शन और अमीबिक पेचिश में भी किया जाता है। 

बिफिलैक कैप्सूल के लाभ – Benefits of Bifilac Capsule in Hindi

बिफिलैक कैप्सूल लेने के विभिन्न लाभ यहां दिए गए हैं

1. पाचन तंत्र में करे सुधार

इस कैप्सूल में प्रीबायोटिक, इम्यूनोबायोटिक और प्रोबायोटिक गुण हैं। इस कैप्सूल से सामान्य बैक्टीरियल फ्लोरा कम होता है। साथ ही, विभिन्न कारणों से दस्त होने वाली समस्याओं को कम किया जा सकता है। यह पाचन विकार और पोषक तत्व अवशोषण को भी कम कर सकता है। 

2. लाभकारी बैक्टीरिया

इस कैप्सूल में बेसिलस मेसेन्टेरिकस, लैक्टोबैसिलस स्पोरोजेन्स, स्ट्रेप्टोकोकस फेकैलिस और क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम नामक अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो पाचन को बेहतर बनाते हैं।

3. आंत की सूजन और दस्त को करे कम

बिफिलैक कैप्सूल को डॉक्टर की सलाह पर खाने से स्वस्थ बैक्टीरियल फ्लोरा को सामान्य करने में काफी मदद मिल सकती है। इससे इम्यूनिटी में भी सुधार हो सकता है, जो सूजन, दस्त और लैक्टोज असहिष्णुता को रोक सकता है। 

4. आंत के पीएच लेवल को करता है कंट्रोल

इस कैप्सूल का सेवन करने से यह एसिटिक एसिड और  ब्यूटिरिक की फैटी एसिड चेन पैदा करने में मदद करता है। साथ ही इससे आंत के पीएच लेवल को भी बहाल करने में मदद मिल सकती है। 

5. दस्त की परेशानी को करे कम

बिफिलैक कैप्सूल का उपयोग हानिकारक बैक्टीरिया को कम कर सकता है और अच्छे बैक्टीरिया का विकास भी बढ़ावा दे सकता है। इससे ल्यूमिनल एंटरोटॉक्सिन स्राव, जो दस्त का मुख्य कारण हो सकता है, कम होता है। इससे दस्त की समस्या काफी हद तक कम होती है। 

बिफिलैक कैप्सूल के साइड-इफेक्ट्सSide Effects of Bifilac Capsule in Hindi

बिफिलेक कैप्सूल का उपयोग करने से होने वाले साइड-इफेक्ट्स कुछ समय बाद कम होने लगते हैं. फिर भी, अगर आपको कोई गंभीर समस्या महसूस हो रही है तो अपने डॉक्टर से तुरंत सलाह लें। क्योंकि यह दवा हर व्यक्ति पर अलग-अलग प्रभाव डाल सकती है इसलिए चिकित्सा सलाह आवश्यक है। इसके कुछ दुष्परिणामों में से कुछ निम्नलिखित हैं: जैसे-

  • स्किन पर जलन होना
  • उल्टी की परेशानी महसूस होना
  • सिरदर्द की समस्या
  • उल्टी और मतली जैसा महसूस होना
  • पेट फूलना
  • कब्ज
  • स्किन पर रैशेज, इत्यादि। 

बिफिलैक कैप्सूल इंटरैक्शन – Bifilac Capsule Interactions in Hindi

एक से अधिक दवा एक साथ लेने से परस्पर क्रिया होने की संभावना रहती है। यदि आपकी दूसरी दवा भी ले रहे हैं, तो उनकी परस्पर क्रिया में बदलाव हो सकता है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट से अवशोषण और आपके शरीर से आपकी दवा के निष्कासन को प्रभावित कर सकता है, जिससे प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है। नशीली दवाओं के परस्पर प्रभाव से बचने के लिए, अपने डॉक्टर को उन सभी दवाओं के बारे में बताएं जिनका आप उपयोग कर रहे हैं; यह काउंटर पर मिलने वाली दवाएं, डॉक्टर के पर्चे वाली दवाएं, आहार अनुपूरक और हर्बल उत्पादों को भी शामिल कर सकता है। बिफिलैक के कुछ उत्पादों और दवाओं के साथ परस्पर क्रिया हो सकती है:

  1.  एंटीबायोटिक दवाओं
  2. साइक्लोस्पोरिन
  3. एज़ैथीओप्रिन
  4. बेसिलिक्सिमाब
  5. प्रतिरक्षादमनकारी
  6. शराब
  7. एंटीफंगल

Bifilac Capsule का इस्तेमाल कैसे करें?

डॉक्टर की सलाह पर बिफिलैक कैप्सूल लेना चाहिए। मुंह के द्वारा इस कैप्सूल को पानी के साथ लेना चाहिए। इस दवा को खाली पेट लेने से आपको गैस्ट्रिक जलन हो सकता है। डॉक्टर कहते हैं कि इसे दिन में सिर्फ एक बार लेना चाहिए।

ध्यान रखें कि कैप्सूल को सीधे निगलना चाहिए, नहीं तोड़ना चाहिए। वहीं, उचित खुराक जानने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। साथ ही इस दवा को जानवरों और बच्चों से दूर रखने का प्रयास करें।

सावधानी

बिफिलैक कैप्सूल समय पर, आपको सावधानियां बरतनी होंगी। यहां बिफिलैक कैप्सूल का उपयोग करने से पहले आपको विभिन्न सावधानियां बरतनी चाहिए

  1. अगर आपको इस कैप्सूल के प्रति किसी तरह की एलर्जी है, तो इसे नहीं खाना चाहिए।
  2. बिफिलैक कैप्सूल लेने से पहले किडनी या लिवर में कोई समस्या होने पर डॉक्टर से तुरंत बात करें।
  3. ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को इस कैप्सूल को खाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।
  4. मैं बिफिलैक कैप्सूल खाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर बात करूँगा।
  5. यदि आप किसी भी प्रकार का कैप्सूल ले रहे हैं, तो इसकी जानकारी रखें। विटामिन सप्लीमेंट्स लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
  6. इसे शराब पीने के दौरान या साथ नहीं लेना चाहिए। नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है।

Bifilac Capsule: सुरक्षा सूचना

यहां विभिन्न सुरक्षा उपाय दिए गए हैं जो आपको बिफिलैक कैप्सूल लेते समय लेने चाहिए     

  1. गर्भावस्था– बिफिलैक को केवल आवश्यक होने पर और गर्भावस्था के दौरान सावधानी से लेना चाहिए। यदि आप गर्भवती हैं तो कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।
  2. स्तनपान– स्तनपान के दौरान सुरक्षा के बारे में जानकारी अभी तक उपलब्ध नहीं है, इसलिए कृपया अपने डॉक्टर को सूचित करें यदि आप एक नर्सिंग मां हैं और सुरक्षित हैं।
  3. ड्राइविंग – डॉक्टर के पर्चे के तहत Bifilac Capsule का उपयोग सुरक्षित है।
  4. मधुमेह – जानकारी उपलब्ध नहीं है, इसलिए कृपया चिकित्सक से परामर्श लें।
  5. शराब: जानकारी उपलब्ध नहीं है, इसलिए कृपया डॉक्टर से सलाह लें।
  6. लीवर– लिवर के मरीजों को बिफिलैक टेबल से बचना चाहिए, कृपया डॉक्टर से सलाह लें।
  7. किडनी– जानकारी उपलब्ध नहीं है, इसलिए कृपया डॉक्टर से सलाह लें।

Bifilac Capsule manufacturers

बिफिलैक कैप्सूल टैबलेट्स इंडिया लिमिटेड ने बनाया है। इसका उपयोग अक्सर दस्त, अपच, क्रोनिक, एट्रोफिक गैस्ट्रोएंटेराइटिस के निदान या उपचार में किया जाता है। इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हैं, जैसे एलर्जी। बिफिलैक कैप्सूल बनाने में स्ट्रेप्टोकोकस फ़ेकेलिस, लैक्टोबैसिलस, क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम और बैसिलस मेसेन्टेरिकस लवणों का उपयोग किया जाता है।

 बिफिलैक कैप्सूल की खुराक – Dosage of Bifilac Capsule in Hindi

एक्सपर्ट बताते हैं कि मरीज की बीमारी का स्तर, मरीज की स्थिति, लक्षण और उम्र इस समय तक इस दवा का डोज निर्धारित करता है। इलाज इन सभी मापदंडों को ध्यान में रखकर ही किया जाता है। इसलिए, डॉक्टर के बताए अनुसार ही दवा लेना चाहिए, उचित मात्रा में, समय पर और न ज्यादा न कम।

1) बिफिलेक ओवरडोज

डॉक्टर की सलाह से अधिक मात्रा में बिफिलेक दवा लेने से नकारात्मक प्रभाव हो सकता है। ऐसे में, कोई गलती से भी ओवरडोज ले लेता है तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि स्थिति और भी गंभीर होने से पहले उपचार मिल सके।

2) क्या हो यदि आप डोज मिस कर दें

आप बिफिलेक के डोज को मिस कर दें तो इसकी जानकारी भी अपने डॉक्टर से साझा करें। दवाओं को सही समय पर लेना अक्सर भूल जाते हैं। इस मामले में सही यही है कि हमें दवा लेनी चाहिए जितना जल्दी हो सके।

यदि समय ज्यादा हो गया है और दूसरे डोज का समय नजदीक आ गया है और हमें याद आया कि मैंने यह दवा ली ही नहीं है, तो अच्छा होगा कि दवा को न लें और आने वाले समय से नियमित रूप से लें। ऐसा करने से आप खतरे से बच सकते हैं, लेकिन यह भी जरूरी है कि अगर आप लगातार दवा का डोज मिस करते जा रहे हैं तो आपकी बीमारी ठीक ही न होने की संभावना अधिक होगी। इसलिए समय पर दवा लेना महत्वपूर्ण है।

Bifilac Capsule कैसे काम करता है?

  1. स्ट्रेप्टोकोकस फ़ेकेलिस: यह एक प्रकार का स्ट्रेप्टोकोकस ग्राम-पॉजिटिव बैक्टीरिया है। यह रोगजनक बैक्टीरिया से बचाने में मदद करता है, जो आंत के बैक्टीरिया को गुणा करके और उपनिवेश बनाता है।
  2. क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम: क्लोस्ट्रीडियम ब्यूटिरिकम बच्चों में एंटीबायोटिक दस्त की रोकथाम और उपचार के लिए संकेत दिया जाता है। यह एक विशिष्ट आंत जीवाणु है, जो अक्सर पर्यावरण में भी पाया जाता है।
  3. बैसिलस मेसेन्टिरिकस: बैसिलस मेसेन्टिरिकस एक ग्राम-पॉजिटिव बैक्टीरिया है। तीव्र दस्त के कारण अस्पताल में भर्ती बच्चों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। यह दस्त की अवधि और गंभीरता को कम करता है।
  4. लैक्टिक एसिड बेसिलस: बिफीडोबैक्टीरियम जैसी प्रजातियां प्रोबायोटिक प्रजातियों के रूप में प्रस्तावित और इस्तेमाल की जाती हैं। यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल बैक्टीरिया को पकड़कर अच्छे बैक्टीरिया को पेट में सुरक्षित रखता है।

Bifilac Capsule के विकल्प

फिलहाल इस दवा के लिए कोई अन्य विकल्प उपलब्ध नहीं है। अगर आप इसके विकल्प की तलाश कर रहे हैं, तो एक बार डॉक्टर से संपर्क करें। वहीं, किसी भी दवा को लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें। 

निष्कर्ष

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर और बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होने वाले दस्त को ठीक करने के लिए बिफिलैक एक एंटी-डायरियल दवा है। इस दवा का मुख्य उद्देश्य पेट की बीमारियों को ठीक करना है और उनकी रोकथाम करना है। इस दवा को भी महिलाओं में संक्रमण को रोकने के लिए सलाह दी जाती है। यह दवा शरीर में खराब बैक्टीरिया को दूर करके अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाती है। बिफिलैक की खुराक रोगी की उम्र, लिंग और पूर्ववर्ती मेडिकल स्थिति पर निर्भर करती है। दवा खरीदने से पहले पैकेट पर लिखे निर्देशों को पढ़कर उनका पालन करना सुनिश्चित करें, साथ ही एक्सपायरी डेट भी देखें। बिफिलैक दवा दो तरह से उपलब्ध है: कैप्सूल और टेबलेट। बच्चे भी इस दवा का सेवन कर सकते हैं।

Bifilac Capsule के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न: क्या प्रेग्नेंसी में बिफिलैक कैप्सूल लेना सुरक्षित है?प्रश्न:प्रश्न: क्या प्रेग्नेंसी में बिफिलैक कैप्सूल लेना सुरक्षित है?

उत्तर: हमारे पास अधिक जानकारी नहीं है कि गर्भावस्था में बिफिलैक कैप्सूल लेना चाहिए या नहीं। हालाँकि, अगर आप इस कैप्सूल को लेने का विचार कर रहे हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

प्रश्न: क्या काम करता है बिफिलैक कैप्सूल?

उत्तर: डॉक्टर की सलाह पर बिफिलैक कैप्सूल खाने से आंत में स्वस्थ माइक्रोबियल फ्लोरा बढ़ सकता है। यह कई प्रकार के दस्त को रोक सकता है। यह दस्त से जुड़ी अन्य समस्याओं को भी हल कर सकता है।

प्रश्न: बिफिलैक कैप्सूल के नुकसान क्या हैं?

उत्तर: बिफिलैक कैप्सूल हर किसी को बुरा नहीं लगता है। हालाँकि, कुछ लोगों को इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जिसमें कब्ज, सूजन, पेट में जलन, स्किन पर रैशेज और खुजली शामिल हैं।

प्रश्न: क्या एंटीबायोटिक दवा के बाद बिफिलैक कैप्सूल ले सकते हैं?

उत्तर: जी हां, बिफिलैक कैप्सूल का सेवन एंटीबायोटिक दवाओं के साथ या फिर बाद में किया जा सकता है।

प्रश्न: बुजुर्ग मरीज बिफिलैक कैप्सूल का इस्तेमाल कर सकते हैं?

उत्तर: बुजुर्गों का स्वास्थ्य अलग-अलग है। साथ ही, कई शारीरिक अंग अच्छी तरह काम नहीं करते, इसलिए इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें। ताकि नुकसान कम हो सके।

प्रश्न: कब बिफिलैक कैप्सूल लेना चाहिए?

उत्तर: बिफिलैक कैप्सूल को डॉक्टर की सलाह पर लें। डॉक्टर से कितनी बार और कब इसे लेना चाहिए बताएं। और खाने के बाद ही इसे लेने की कोशिश करें।

Disclaimer

Capsuleinfo.com does not intend the content of this website to substitute for professional medical advice, diagnosis, treatment, or prevention of diseases and medical conditions. If you have any disease or medical condition, visit a doctor as soon as possible for treatment and/or management.

All informational articles are written according to our editorial research policy and researched and reviewed by a group of doctors & authors to get published on the website.

Found an error ? Notify us

If you find anything irrelevant and wrong information, We request user to notify us on our our mail with subject : Content Issues and URL @ support@capsuleinfo.com

Popular Doctors

0 out of 5

Dr. Saurabh Raj

ENT Specialists
Bangalore
₹600
Dr. Ameena Meah India bangalore Diabetologist
0 out of 5

Dr. Ameena Meah

Bangalore
₹500
Dr. Krishna Vora MBBS, MS - ENT, Diploma in Otorhinolaryngology (DLO) ENT/ Otorhinolaryngologist
0 out of 5

Dr. Krishna Vora

Mumbai
₹1500 fee

Related Articles